Sale!

Amar Shahid Chandrashekhar Azad/Chandrashekhar Azad Viveksheel Krantikari/Amar Shahid Ashfak Ullakhan Khan/Ram Prasad Bismil Ko Phansi

0 out of 5

894.00 805.00

SKU: Set-8 (शहीदों का जीवन : जीवनी और संस्मरण) Author: Malvender Jit Singh Waraich, Pandit Banarsidas chaturvedi, VISHWANATH VAISHAMPAYAN
Publisher: Rajkamal Prakashan
Subject: Biography, Memoirs
Categories: biography, Memoirs

190 in stock

Description

अमर शहीद चंद्रशेखर आज़ाद

वैशम्पायन ने आज़ाद की एक मनुष्य, एक साथी और क्रान्तिकारी पार्टी के सुयोग्य सेनापति की छवि को विस्तार देते हुए उनके सम्पूर्ण क्रान्तिकारी योगदान के सार्थक मूल्यांकन के साथ ही आज़ाद के अन्तिम दिनों में पार्टी की स्थिति, कुछेक साथियों की गद्दारी और आज़ाद की शहादत के लिए जिम्मेदार तत्त्वों का पर्दाफाश किया है। अपनी पुस्तक में वैशम्पायन जी बहुत निर्भीकता से सारी बातें कह पाए हैं। उनके पास तथ्य हैं और तर्क भी। आज़ाद से उनकी निकटता इस कार्य को और भी आसान बना देती है। आज़ाद और वैशम्पायन के बीच सेनापति और सिपाही का रिश्ता है तो अग्रज और अनुज का भी। वे आज़ाद के सर्वाधिक विश्वस्त सहयोगी के रूप में हमें हर जगह खड़े दिखाई देते हैं। आज़ाद की शहादत के बाद यदि वैशम्पायन न लिखते तो आज़ाद के उस पूरे दौर पर एक निष्पक्ष और तर्कपूर्ण दृष्टि डालना हमारे लिए सम्भव न होता। एक गुप्त क्रान्तिकारी पार्टी के संकट, पार्टी का वैचारिक आधार, जनता से उसका जुड़ाव, केन्द्रीय समिति के सदस्यों का टूटना और दूर होना तथा आज़ाद के अन्तिम दिनों में पार्टी की संगठनात्मक स्थिति जैसे गम्भीर मुद्दों पर वैशम्पायन जी ने बहुत खरेपन के साथ कहा है। वे स्वयं भी एक क्रान्तिकारी की कसौटी पर सच्चे उतरे हैं। आज़ाद के साथ किसी भी कठिन परीक्षा में वे कभी अनुत्तीर्ण नहीं हुए। आज़ाद को खोकर वैशम्पायन ने कितना अकेलापन महसूस किया, इसे उनकी इस कृति में साफ-साफ पढ़ा जा सकता है। आज़ाद-युग पर वैशम्पायन जी की यह अत्यन्त विचारोत्तेजक कृति है जो आज़ाद की तस्वीर पर पड़ी धूल को हटाकर उनके क्रान्तिकारित्व को सामने लाने का ऐतिहासिक दायित्व पूरा करती है। – सुधीर विद्यार्थी

लेखक : विश्वनाथ वैशम्पायन

जन्म: 28 नवम्बर 1910 ई. बाँदा (उत्तर प्रदेश)। प्रारम्भिक शिक्षा बाँदा और सरस्वती विद्यालय झाँसी में। मास्टर रुद्रनारायण के सम्पर्क में आकर क्रान्तिकारी बने। ‘हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन’ में कार्य किया। चन्द्रशेखर आज़ाद के अत्यन्त विश्वस्त सहयोगी। 11 फरवरी 1931 को कानपुर में गिफ्तारी। वहीं से ‘दिल्ली षड्यंत्र केस’ में लाए गए। ‘ग्वालियर षड्यन्त्र केस’ भी चला। डिफेन्स ऑफ इंडिया रूल’ में भी पकड़े गए। नजरबन्दी। कारावास के 8 वर्ष एक महीना और 8 दिन कानपुर, दिल्ली तथा नैनीताल में बीते। जेल में भूख हड़ताल। 19 मार्च 1939 को रिहाई।

जेल में ही गहन अध्ययन और चिन्तन। इसी समय लेखन की ओर झुकाव। छूटने पर पत्रकारिता भी की। रायपुर के दैनिक ‘महाकौशल’ में आठ वर्ष  काम किया। अनुवाद कार्य भी किया। बंगला लेखिका प्रभावती सरस्वती के दो उपन्यासों ‘कंगाल की बेटी’ और ‘निर्दोष कन्या’ तथा मराठी उपन्यासकार हरिनारायण आप्टे का ऐतिहासिक उपन्यास ‘उषाकाल’ का अनुवाद। सुखणकर के दो उपन्यास तथा लारेन बिन्यन का ‘अकबर दि ग्रेट’ भी अनूदित किया। ‘डान रामौन’ का भी अनुवाद किसी पत्रिका में छपा। अनेक कथाएँ, एकांकी, प्रहसन और कविताएँ लिखीं।

अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद की बड़ी जीवनी तीन भागों में लिपिबद्ध की। क्रान्तिकारी शहीद भगवतीचरण बोहरा और अपनी जीवन-कथा लिखने की योजना पूरी नहीं हो सकी।

परिवार में पत्नी ललिता वैशम्पायन और दो बेटियाँ। 20 अक्टूबर 1967 को 57 वर्ष की आयु में निधन।

 

चन्द्रशेखर आज़ाद: विवेकशील क्रान्तिकारी

चन्द्रशेखर आज़ाद: विवेकशील क्रान्तिकारी’ प्रत्येक भारतीय के लिए एक अनिवार्य पाठ्य-पुस्तक की तरह है। चन्द्रशेखर आज़ाद ने भारत के स्वाधीनता संग्राम में महानायक की भूमिका निभाई। सच्चे अर्थों में उनका तन-मन-धन भारतमाता की सेवा में समर्पित रहा। वे आज़ाद जिए और अन्त तक पुलिस के हाथ न आए। आज़ाद ने अपने साहसी व्यक्तित्व से आज़ादी के देशव्यापी अभियान को क्रान्ति की अद्भुत गरिमा प्रदान की। उनके व्यक्तित्व से प्रभावित होकर असंख्य युवाओं ने क्रान्ति के मार्ग पर कदम बढ़ाए। सरदार भगत सिंह के साथ तो आज़ाद का विशेष लगाव था। इस पुस्तक के अनुसार, ‘भगत सिंह को आज़ाद केवल पार्टी के एक सदस्य के नाते ही नहीं देखते थे, बल्कि उन्हें अपने भाई की तरह, अपने परिवार के व्यक्ति की तरह मानते और अत्यधिक स्नेह करते थे।’ सत्य तो यह है कि आज़ाद को प्रत्येक क्रान्तिकारी में अपना ही रूप दिखाई देता था। प्रस्तुत पुस्तक अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद के जीवन-वृत्तान्त के साथ उनके युग की महान गाथा रेखांकित करती है। समकालीन सन्दर्भों में यह पुस्तक अत्यधिक महत्त्वपूर्ण हो उठती है।

लेखक : मल्वेंदर जीत सिंह

जन्म : 1929, गाँव लाधेवाला वढ़ैच, जिला गुजराँवाला।

शिक्षा : अंग्रेजी, इतिहास, राजनीति विज्ञान, अर्थ शास्त्र और समाज शास्त्र में एम.ए.।

30 साल गुरु नानक इंजीनियरिंग कॉलेज, लुधियाना में पढ़ाने के उपरान्त नवम्बर, 1989 में सेवानिवृत्त। फिर एल.एल.बी. करके 1992 में माननीय पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में वकालत शुरू की और वहाँ जनहित पिटिशनों (क्कढ्ढरुह्य) द्वारा ‘कूका विद्रोह’, ‘गदर लहर’, ‘कौमागाटा मारू’ और ‘जलियाँवाला बाग’ के शहीदों को कानूनी तौर पर ‘शहीदों’ का दर्जा दिलवाया।

पहली पुस्तक ‘जीवन संग्राम : आत्मकथा बाबा सोहन सिंह भकना’ (उर्दू से पंजाबी में अनुवाद)। अब तक क्रान्तिकारियों के बारे में लगभग 40 किताबें अंग्रेजी, पंजाबी और हिन्दी में प्रकाशित। यह सिलसिला आज भी जारी है।

हिन्दी में लिखी पुस्तकों में ‘भगत सिंह को फाँसी’ (अदालती फैसले), भाग-1, ‘भगत सिंह को फाँसी’ (अदालती गवाहियाँ), भाग-2, ‘चन्द्रशेखर आजाद : विवेकशील क्रान्तिकारी’, ‘राम प्रसाद बिस्मिल को फाँसी व महावीर सिंह का बलिदान’, ‘भगत सिंह अमर विद्रोही’ शामिल हैं।

आप ने क्रान्तिकारियों की एक गैलरी, ‘नेशनल गैलरी ऑफ पोर्टरेट्स (1857-1947)’ की रचना भी की है, जो सेंट्रल स्टेट लाइब्रेरी, सेक्टर 17, चंडीगढ़ में सुशोभित है।

 

अमर शहीद अशफाक उल्ला खा

जब तुम दुनिया में आओगे तो मेरी कहानी सुनोगे और मेरी तस्वीर देखोगे। मेरी इस तहरीर को मेरे दिमाग़ का असर न समझना। मैं बिलकुल सही दिमाग़ का हूँ और अक़्ल ठीक काम कर रही है। मेरा मक़सद महज़ बच्चों के लिए लिखना यूँ है कि वह अपने फ़राइज़ महसूस करें और मेरी याद ताज़ा करें। उक्त बातें क्रान्तिकारी शहीद अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ ने अपने भतीजों के लिए, फाँसी से ठीक पूर्व लिखी थीं। उनका मक़सद देश की नौजवान पीढ़ी को उनके दायित्वों और प्रतिबद्धताओं से वाक़िफ़ कराना था। देशभक्ति से सराबोर ऐसे क्रान्तिकारी आज विस्मृत कर दिए गए हैं। क्रान्तिकारियों और स्वतंत्रता-सेनानियों के हमदर्द बनारसीदास चतुर्वेदी द्वारा सम्पादित यह पुस्तक अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ के क्रान्तिकारी जीवन और उनके काव्य-संसार से पाठक का परिचय कराती है। दरअसल उनकी रचनाओं और जीवन के मुक़ाम के रास्ते दो नहीं एक रहे हैं। पुस्तक में अशफ़ाक़ उल्ला का बचपन, सरफ़रोशी की तमन्नावाले जवानी के दिन, अंग्रेज़ों के प्रति मुखर विद्रोह और अन्ततः देश की ख़ातिर फाँसी के तख़्ते पर चढ़ाए जाने तक की सारी बातें सिलसिलेवार दर्ज हैं। किताब का सबसे महत्त्वपूर्ण हिस्सा है – अशफ़ाक़ के पत्र, उनके सन्देश, उनकी ग़ज़लें, शायरी तथा उनके लेख जिनमें वह अपनी ‘ख़ानदानी हालत’, ‘बचपन और तालीमी तरबियत’, ‘स्कूल और मायूस ज़िन्दगी’ और ‘जज़्बाते-इत्तिहादी इस्लामी’ का यथार्थ वर्णन करते हैं। रामप्रसाद बिस्मिल और अशफ़ाक़ उल्ला को जानना देश की गंगा-जमना तहज़ीब की विरासत और उनके रग-रेशे में प्रवाहित देशभक्ति और मित्रभाव को भी जानना है। बनारसीदास चतुर्वेदी के अलावा रामप्रसाद ‘बिस्मिल’, मन्मथनाथ गुप्त, जोगेशचंद्र चटर्जी और रियासत उल्ला ख़ाँ के लेख भी अशफ़ाक़ की वतनपरस्ती और ईमान की सच्ची बानगी पेश करते हैं। निस्सन्देह, यह पुस्तक अशफ़ाक़ को नए सिरे से देखने और समझने में मददगार साबित होती है।

लेखक : बनारसीदास चतुर्वेदी

जन्म : 24 दिसम्बर, 1892 को फीरोजाबाद (उ–प्र–) में एक ग्राम शिक्षक पं– गणेशीलाल चैबे के घर ।
शिक्षा : इंटरमीडिएट 1913 में ।
पहले स्कूल–शिक्षक, फिर छह वर्ष इंदौर के राजकुमार कॉलेज में, तदनन्तर चार वर्ष अहमदाबाद में गांधीजी के गुजरात विद्यापीठ में हिन्दी अध्यापन ।
विद्यार्थी रहते हुए ही लेखन–प्रकाशन । कुछ साल स्वतंत्र पत्रकारिता । सन् 1927 में विशाल भारत (कोलकाता) के संस्थापक सम्पादक । बाद में पाक्षिक लघु पत्रिका मधुकर (टीकमगढ़) का सम्पादन ।
सृजन : फिजी द्वीप में मेरे 21 वर्ष (फीजी से लौटे गिरमिटिया पं– तोताराम सनाढ्य की आपबीती) प्रवासी भारतवासी सहित कई पुस्तकें प्रकाशित । शहीद ग्रंथावली का सम्पादन ।
1945 में अ–भा– हिन्दी पत्रकार सम्मेलन और 1955 में भारतीय श्रमजीवी पत्रकार संघ के अ/यक्ष ।
बारह वर्ष (1952–64) तक पहले विन्/य प्रदेश और फिर म/य प्रदेश की ओर से राज्यसभा सदस्य ।
1959 और 1966 में सरकारी निमंत्रण पर सोवियत रूस की साहित्यिक–यात्रा ।
क्रान्तिकारी शहीदों के परिवारों को आर्थिक सुरक्षा दिलाने और दिवंगत साहित्यकारों की कीर्तिरक्षा करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका । श्रमजीवी पत्रकारों की आर्थिक–बौद्धिक सुदशा व उन्नति के लिए वे आजीवन प्रयत्नशील रहे ।
देहान्त : जन्म–स्थान में ही 2 मई, 1985 को ।

 

राम प्रसाद बिस्मिल को फाँसी

शताब्दियों की पराधीनता के बाद भारत के क्षितिज पर स्वतंत्रता का जो सूर्य चमका, वह अप्रतिम था। इस सूर्य की लालिमा में उन असंख्य देशभक्तों का लहू भी शामिल था, जिन्होंने अपना सर्वस्व क्रान्ति की बलिवेदी पर न्योछावर कर दिया। इन देशभक्तों में रामप्रसाद बिस्मिल का नाम अग्रगण्य है। संगठनकर्ता, शायर और क्रान्तिकारी के रूप में बिस्मिल का योगदान अतुलनीय है। ‘काकोरी केस’ में बिस्मिल को दोषी पाकर फिरंगियों ने उन्हें फाँसी पर चढ़ा दिया था। इस प्रकरण का दस्तावेजी विवरण प्रस्तुत पुस्तक को खास बनाता है। शहीद महावीर सिंह साहस व समर्पण की प्रतिमूर्ति थे। तत्कालीन अनेक क्रान्तिकारियों से उनके हार्दिक सम्बन्ध थे। इनका बलिदान ऐसी गाथा है, जिसे कोई भी देशभक्त नागरिक गर्व से बार-बार पढ़ना चाहेगा। पुस्तक पढ़ते समय रामप्रसाद बिस्मिल की ये पंक्तियाँ मन में गूँजती रहती हैंदृ सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है ज़ोर कितना बाज़घए क़ातिल में है। एक संग्रहणीय पुस्तक।

लेखक : मल्वेंदर जीत सिंह

जन्म : 1929, गाँव लाधेवाला वढ़ैच, जिला गुजराँवाला।

शिक्षा : अंग्रेजी, इतिहास, राजनीति विज्ञान, अर्थ शास्त्र और समाज शास्त्र में एम.ए.।

30 साल गुरु नानक इंजीनियरिंग कॉलेज, लुधियाना में पढ़ाने के उपरान्त नवम्बर, 1989 में सेवानिवृत्त। फिर एल.एल.बी. करके 1992 में माननीय पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में वकालत शुरू की और वहाँ जनहित पिटिशनों (क्कढ्ढरुह्य) द्वारा ‘कूका विद्रोह’, ‘गदर लहर’, ‘कौमागाटा मारू’ और ‘जलियाँवाला बाग’ के शहीदों को कानूनी तौर पर ‘शहीदों’ का दर्जा दिलवाया।

पहली पुस्तक ‘जीवन संग्राम : आत्मकथा बाबा सोहन सिंह भकना’ (उर्दू से पंजाबी में अनुवाद)। अब तक क्रान्तिकारियों के बारे में लगभग 40 किताबें अंग्रेजी, पंजाबी और हिन्दी में प्रकाशित। यह सिलसिला आज भी जारी है।

हिन्दी में लिखी पुस्तकों में ‘भगत सिंह को फाँसी’ (अदालती फैसले), भाग-1, ‘भगत सिंह को फाँसी’ (अदालती गवाहियाँ), भाग-2, ‘चन्द्रशेखर आजाद : विवेकशील क्रान्तिकारी’, ‘राम प्रसाद बिस्मिल को फाँसी व महावीर सिंह का बलिदान’, ‘भगत सिंह अमर विद्रोही’ शामिल हैं।

आप ने क्रान्तिकारियों की एक गैलरी, ‘नेशनल गैलरी ऑफ पोर्टरेट्स (1857-1947)’ की रचना भी की है, जो सेंट्रल स्टेट लाइब्रेरी, सेक्टर 17, चंडीगढ़ में सुशोभित है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Amar Shahid Chandrashekhar Azad/Chandrashekhar Azad Viveksheel Krantikari/Amar Shahid Ashfak Ullakhan Khan/Ram Prasad Bismil Ko Phansi”