Sale!

Chitralekha/Kohbar Ki Shart/Umraojan Adaa/Sahab Bibi Gulam/Devdas

0 out of 5

844.00 760.00

SKU: Set-31 (पाँच उपन्यास : जिन पर मशहूर फ़िल्में बनीं) Author: Bhagwaticharan Verma, Bimal Mitra, Keshav Prasad Mishra, Mirza Haadi Ruswa, Sharatchandra
Subject: Fiction : Novel
Category: Fiction : Novel

198 in stock

Description

चित्रलेखा

चित्रलेखा न केवल भगवतीचरण वर्मा को एक उपन्यासकार के रूप में प्रतिष्ठा दिलानेवाला पहला उपन्यास है बल्कि हिंदी के उन विरले उपन्यासों में भी गणनीय है, जिनकी लोकप्रियता बराबर काल की सीमा को लाँघती रही है।
चित्रालेखा की कथा पाप और पुण्य की समस्या पर आधारित है। पाप क्या है ? उसका निवास कहाँ है ? -इन प्रश्नों का उत्तर खोजने के लिए महाप्रभु रत्नांबर के दो शिष्य, श्वेतांक और विशालदेव, क्रमशः सामंत बीजगुप्त और योगी कुमारगिरि की शरण में जाते हैं। इनके साथ रहते हुए श्वेतांक और विशालदेव नितांत भिन्न जीवनानुभवों से गुजरते हैं। और उनके निष्कर्षों पर महाप्रभु रत्नांबर की टिप्पणी है, “संसार में पाप कुछ भी नहीं है, यह केवल मनुष्य के दृष्टिकोण की विषमता का दूसरा नाम है। हम न पाप करते हैं और न पुण्य करते हैं, हम केवल वह करते हैं जो हमें करना पड़ता है।”

लेखक : भगवतीचरण वर्मा

कोहबर की शर्त

कोहबर की शर्त एक ऐसा उपन्यास है, जिसमें पूर्वी उत्तर प्रदेश के दो गाँवों–बलिहार और चौबेछपरा–का जनजीवन गहन संवेदना और आत्मीयता के साथ चित्रित हुआ है–एक रेखांकन की तरह, यथार्थ की आड़ी-तिरछी रेखाओं के बीच झाँकती-सी कोई छवि या आकृति। यह आकृति एक स्वप्न है। इसे दो युवा हृदयों ने सिरजा था। लेकिन एक पिछड़े हुए समाज और मूल्य-विरोधी व्यवस्था में ऐसा स्वप्न कैसे साकार हो? चन्दन के सामने ही उसके स्वप्न के चार टुकड़े–कुँवारी गुंजा, सुहागिन गुंजा, विधवा गुंजा और कफ़न ओढ़े गुंजा–हो जाते हैं! इतना सब झेलकर भी चन्दन यथार्थ की कठोर धरती पर पूरी दृढ़ता और विश्वास से खड़ा रहता है।

लेखक : केशव प्रसाद मिश्र

उमराव जान

उमराव जान ‘अदा’ उर्दू के आरंभिक उपन्यासों में अहम् स्थान रखता है । वस्तुतः यह आत्मकथात्मक उपन्यास है जिसे मिर्जा हादी ‘रुस्वा’ ने कलमबंद किया है । शायर होने के नाते लेखक तवायफ-शायर उमराव जान ‘अदा’ को काफी करीब से जनता था । उमराव ने अपने संस्मरण स्वयं मिर्जा को सुनाए थे ।
फ़ैजाबाद की बच्ची ‘अमीरन’ के लखनऊ में तवायफ उमराव जान से शायरा ‘अदा’ बनने तक के सफ़र को समेटती हुई यह कथा उन्नीसवीं सदी के उत्तरार्द्ध की विडंबनाओ, विसंगतियों तथा अंग्रेजी दौर की तबाहियों का भी खाका खींचती है । अपने रूप-सौंदर्य, मधुर कंठ, नृत्य-कला, नफासत तथा अदबी तौर-तरीकों के कारण उमराव जान अमीरों-रईसों में ससम्मान लोकप्रिय रही । बचपन में ही बेघर हो जाने की वजह से ताउम्र वह मोहब्बत की तलाश में भटकती रही । उसने वे सारी त्रासदियाँ भोगीं जो एक संवेदनशील व्यक्ति के दरपेश होती हैं ।
उपन्यास में भाषा का इस्तेमाल पत्र और परिस्थिति के अनुकूल है जो मार्मिक है और प्रभावशाली भी । उर्दू के अवधी लहजे की मिठास इसकी सबसे बड़ी खासियत है । अनुवादक गिरीश माथुर ने मूल भाषा की सजीवता बरकरार रखी है ।

लेखक  : मिरजा हादी रुस्बा, उर्दू से अनु. गिरीश माथुर

साहब बीबी गुलाम

‘साहब बीबी गुलाम’ कलकत्ता शहर के बसने, बढ़ने और फैलने का दिलचस्प आख्यान है।
इस उपन्यास के रूप में बँगला कथाकार विमल मित्रा ने एक ऐसी कृति प्रस्तुत की है जो अपने आपमें कथाशिल्प का स्थापत्य है। इसमें कलकत्ता के बहुरंगी अतीत को उसके विकासशील वर्तमान से जोड़ने का एक सुंदर और कलात्मक प्रयोग किया गया है।
इस कृति में कथाकार ने उन राजा-रईसों के वैभव-विलास और आमोद-प्रमोद का चित्राण किया है जो कभी आलीशान महलों में बड़ी शान-ओ-शौकत से रहा करते थे। साथ ही इसमें उनके निरीह सेवकों-गुलामों की विवशता का भी हृदयस्पर्शी चित्राण है जो दिन-रात उनकी सेवा में लगे रहते हैं। सामंती परिवार का वह भीतरी परिवेश इसमें पूरे प्रभाव के साथ उभरा है जिसमें अपरिमित सुखों के बीच अलग-अलग तरह के दुख पलते रहते हैं। पूरी कथा ओवरसियर भूतनाथ की जुबानी सामने आती है जो वर्तमान का संवाहक होकर भी अतीत की यादों में खोया रहता है। अंतःपुरवासिनी ‘छोटी बहू’ उसके ही मन पर नहीं, पाठकों के मन पर भी छाई रहती है।

लेखक : विमल मित्र, बांग्ला से अनु. योगेन्द्र चौधरी

देवदास

देवदास शरतचन्द्र का पहला उपन्यास है। लिखे जाने के सोलह साल बाद तक यह अप्रकाशित रहा। शरत स्वयं इसके प्रकाशन के लिए उत्साही नहीं थे, लेकिन 1917 ई. में इसके छपने के साथ ही व्यापक रूप से इसकी चर्चा शुरू हो गई थी। विभिन्न भारतीय भाषाओं में इसके अनेक अनुवाद हुए। अनेक भारतीय भाषाओं में इस पर फिल्में बनीं। आखिर देवदास की इतनी लोकप्रियता के क्या कारण हैं? यह कृति क्यों कालजयी बन गई? असल में देवदास सामंती ढाँचेवाले भारतीय समाज में घटित एक ऐसी प्रेमकथा है जिसमें गहरी संवेदनशीलता है। शरत ने उसे इतनी अन्तरंगता से लिखा है कि देवदास की कहानी में सबको कहीं-न-कहीं अपनी जिन्दगी भी दिखाई दे जाती है। देवदास भारतीय समाज-व्यवस्था की अनेक विसंगतियों पर एक कड़ी टिप्पणी भी है। पत्रकार सुरेश शर्मा ने देवदास की विस्तृत भूमिका में पहली बार इस कृति और उसके सर्जक शरतचन्द्र के बारे में अनेक नई जानकारियाँ दी हैं। यह भूमिका न सिर्फ इस कृति का नया मूल्यांकन करती है बल्कि इस बात की भी तलाश करती है कि देवदास की पारो और चन्द्रमुखी कौन थी? शरत को ये पात्र जीवन में कहाँ और कब मिले? – इन जानकारियों के साथ देवदास को पढ़ना उसमें नया अर्थ पैदा करेगा।

लेखक : शरत चन्द्र, बांग्ला से अनु. विमल मिश्र

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Chitralekha/Kohbar Ki Shart/Umraojan Adaa/Sahab Bibi Gulam/Devdas”