Sale!

Gule Nagma/Kagaz Aur Canwas

0 out of 5

575.00 518.00

SKU: Set-10 (ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित रचनाकारों की दो खास किताबें) Author: Amrita Preetam, FIRAQ GORAKHPURI
Publisher: LOKBHARTI PRAKASHAN, Rajkamal Prakashan
Categories: Awarded Books, Poetry

199 in stock

Description

गुले नगमा

फ़िराक़’ साहब ने उर्दू शायरी को एक बिलकुल नया आशिक़ दिया है और उसी तरह बिलकुल नया माशूक भी। इस नये आशिक़ की एक बड़ी स्पष्ट विशेषता यह है कि इसके भीतर एक ऐसी गम्भीरता पायी जाती है, जो उर्दू शायरी में पहले नज़र नहीं आती थी। ‘फ़िराक़’ साहब के काव्य में मानवता की वही आधारभूमि है और उसी स्तर की है जैसे ‘मीर’ के यहाँ, परन्तु उसके साथ ही उनके काव्य में ऐसी तीव्र प्रबुद्धता है, जो उर्दू के किसी शायर से दब के नहीं रहती, चाहे ज़्यादा ही हो। अतएव, उनके आशिक़ में एक तरफ़ तो आत्मनिष्ठ मानव की गम्भीरता है, दूसरी तरफ़ प्रबुद्ध मानव की गरिमा है। भारत, भारत-प्रेम और भारतीय परिवेश को लेकर उर्दू कविता में बहुत-कुछ कहा-लिखा गया है, लेकिन ज़ाहिर है – उनके स्वरों और ध्वनियों में भारतीयता और मानवता की वह झंकार नहीं सुनाई देती जो ‘फ़िराक़’ की यहाँ मौजूद है। ‘गुले-नग़मा’ की कविताएँ इस बात का ताज़ा मिसाल हैं कि कवि ने भारतीय संस्कृति की आत्मीयता, रहस्यमयता और व्यक्तित्व को अपनी कल्पना और आत्मा में समा लिया है। शायद यही वजह है कि ‘गुले-नग़मा’ की कविताओं में भारतीय आत्मा की धड़कनें गूँजती सुनाई देती हैं और उनका संगीत भारत की आत्मा का रंगारंग दर्शन कराता है।… ‘गुले-नग़मा’ सन् 1961 में ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’ तथा 1970 के ‘भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार’ द्वारा सम्मानित है।

लेखक : फि’राक’’ गोरखपुरी

न्म : 1896 ई–, गोरखपुर में ।
कॉलेज में शिक्षा–प्राप्ति के दौरान ‘गोखले पदक’, ‘रानाडे पदक’, ‘सशादरी पदक’ से सम्मानित ।
रचनारम्भ छात्रावस्था से ही ।
सन् 1930 से 1958 तक इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अंग्रेजी साहित्य के अध्यापक ।
सन् 1959 से 1962 तक विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के ‘रिसर्च प्रोफेसर’ ।
सन् 1961 में ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’ ।
सन् 1968 में ‘सोवियत–लैंड नेहरू पुरस्कार’ ।
सन् 1968 में ही राष्ट्रपति द्वारा ‘पद्मभूषण’ उपाधि से विभूषित ।
सन् 1970 में भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार द्वारा सम्मानित ।
1970 में साहित्य अकादेमी के सम्मानित सदस्य (फेलो) मनोनीत ।

 

कागज और कैनवस

पंजाबी के शीर्षस्थ कवियों और कथाकारों में गणनीय अमृता प्रीतम की सृजन-प्रतिभा को नारी-सुलभ कोमलता और संवेदनशीलता के साथ-साथ मर्म्भेदिनी कला-दृष्टि का सहज वरदान प्राप्त है! उनके रचनाकार की यह विशिष्टता उन्हें एक ऐसा व्यक्तित्व प्रदान करती है जो तटस्थ भी है और आत्मीय भी! निजता की भावना से उनकी कृतियाँ सराबोर हैं! वर्ष 1980-81 के भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित कागज और कैनवास में अमृता जी की उत्तरकालीन प्रतिनिधि कवितायेँ संगृहित हैं! प्रेम और यौवन के धूप-छाँही रंगों में अतृप्त का रस घोलकर उन्होंने जिस उच्छल काव्य-बदिरा का आस्वाद अपने पाठकों को पहले कराया था, वह इन कविताओं तक आते-आते पर्याप्त संयमित हो गया है और सामाजिक यथार्थ के शिला-खण्डों से टकराते युग-मानव की व्यथा-कथा ही यहाँ विशेष रूप से मुखरित है! आधुनिक यन्त्र-युग की दें मनुष्य के आंतरिक सूनेपन को भी अमृता जी ने बहुत सघनता के साथ चित्रित किया है! देवनागरी लिपि में मुद्रित मूल पंजाबी कविताओं के साथ उनका हिंदी सूपंतर पाठकों को उनके मर्म तक पैठने में सहायक होगा, इस आशा के साथ प्रस्तुत है यह विशिष्ठ कृति, जिसमें अमृता जी ने भोगे हुए क्षणों को वाणी दी है!

लेखक : अमृता प्रीतम

जन्म : 31 अगस्त, 1919, गुजराँवाला (पंजाब)।

बचपन और शिक्षा लाहौर में। किशोरावस्था से ही काव्य-रचना की ओर प्रवृत्ति। बँटवारे से पहले लाहौर से प्रकाशित होनेवाली मासिक पत्रिका ‘नई दुनिया’ का सम्पादन किया, फिर ‘नागमणि’ नामक पंजाबी मासिक निकाला। कुछ दिनों तक आकाशवाणी, दिल्ली से सम्बद्ध रहीं। 1956 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित और 1958 में पंजाब सरकार के भाषा-विभाग द्वारा पुरस्कृत। 1961 में सोवियत लेखक संघ के निमंत्रण पर मास्को-यात्रा, फिर मई, 1966 में बलगारिया लेखक संघ के निमंत्रण पर बलगारिया की यात्रा। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित।

अब तक तीन दर्जन से अधिक पुस्तकें मूल पंजाबी में प्रकाशित, जिनमें से दो-तीन को छोड़कर प्राय: सभी पुस्तकों के हिन्दी अनुवाद। कुछ अन्य भारतीय भाषाओं के अतिरिक्त रूसी, जर्मन आदि यूरोपीय भाषाओं में भी रचनाएँ अनूदित।

प्रमुख प्रकाशित पुस्तकें : धूप का टुकड़ा, काग़ज़ और कैनवस (कविता-संग्रह); रसीदी टिकट, दस्तावेज़ (आत्मकथा); डॉक्टर देव, पिंजर, घोंसला, एक सवाल, बुलावा, बन्द दरवाज़ा, रंग का पत्ता, एक थी अनीता, धरती, सागर और सीपियाँ, दिल्ली की गलियाँ, जलावतन, जेबकतरे, पक्की हवेली, आग की लकीर, कोई नहीं जानता, यह सच है, एक ख़ाली जगह, तेरहवाँ सूरज, उनचास दिन, कोरे काग़ज़, हरदत्त का जि़न्दगीनामा इत्यादि (उपन्यास); अन्तिम पत्र, लाल मिर्च, एक लड़की एक जाम, दो खिड़कियाँ, हीरे की कनी, पाँच बरस लम्बी सड़क, एक शहर की मौत, तीसरी औरत, यह कहानी नहीं, अक्षरों की छाया में, आदि (कहानी-संग्रह)।

निधन : 31 अक्टूबर, 2005

Additional information

Authors

,

Publisher

,

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Gule Nagma/Kagaz Aur Canwas”