Sale!

‘Kaun Hain Bharat Mata?’ : Itihas, Sanskriti Aur Bharat Ki Sankalpana

0 out of 5

499.00 449.00

SKU: NewRelease-016 Author: Purushottam Agarwal
Pub-Year: 2021
Edition: 1st
Pages: 512p
Publisher: Rajkamal Prakashan
Subject: Non-Fiction
Category: History

85 in stock

Description

‘यह भारतमाता कौन है, जिसकी जय आप देखना चाहते हैं’? 1936 की एक सार्वजनिक सभा में जवाहरलाल नेहरू ने लोगों से यह सवाल पूछा। वही जवाहरलाल जो भारत के स्वाधीनता-आन्दोलन के सबसे महत्त्वपूर्ण नायकों में रहे और बाद में देश के पहले प्रधानमंत्री भी बने। फिर उन्होंने कहा : बेशक ये पहाड़ और नदियाँ, जंगल और मैदान सबको बहुत प्यारे हैं, लेकिन जो बात जानना सबसे ज़रूरी है वह यह कि इस विशाल भूमि में फैले भारतवासी सबसे ज़्यादा मायने रखते हैं। भारतमाता यही करोड़ों-करोड़ जनता है और भारतमाता की जय उसकी भूमि पर रहने वाले इन सब की जय है।’ यह किताब इस सच्ची लोकतांत्रिक भावना और समावेशी दृष्टिकोण को धारण करने वाले शानदार दिमाग़ को हमारे सामने रखती है। यह पुस्तक आज के समय में ख़ासतौर से प्रासंगिक है जब ‘राष्ट्रवाद’ और ‘भारतमाता की जय’ के नारे का इस्तेमाल भारत के विचार को एक आक्रामक चोगा पहनाने के लिए किया जा रहा है जिसमें यहाँ रहनेवाले करोड़ों निवासि‍यों और नागरिकों को छोड़ दिया गया है।

‘कौन हैं भारतमाता?’ में नेहरू की क्लासिक किताबों—‘आत्मकथा’, ‘विश्व इतिहास की झलक’ और ‘भारत की खोज’—से लेख और अंश लिये गए हैं। उनके भाषण, निबन्ध और पत्र, उनके कुछ बहुत प्रासंगिक साक्षात्कार भी इसमें हैं। संकलन के दूसरे भाग में नेहरू का मूल्यांकन करते हुए अन्य लेखकों के अलावा महात्मा गांधी, भगत सिंह, सरदार पटेल, मौलाना आज़ाद, अरुणा आसफ़ अली, रामधारी सिंह ‘दिनकर’, अली सरदार जाफ़री, बल्देव सिंह, मार्टिन लूथर किंग जूनियर, रिचर्ड एटनबरो, ली कुआन यू और अटल बिहारी वाजपेयी के आलेख शामिल हैं। बहुत सारे विषयों से गुँथी इस किताब के पन्नों में—जिसमें एक बहुत शानदार प्रस्तावना भी है—नेहरू एक ऐसे महत्त्वपूर्ण कर्मशील व विचारशील व्यक्ति के रूप में उभरते हैं जिनमें भारत की सभ्यतामूलक आत्मा की एक सहज समझदारी थी और साथ ही वैज्ञानिक दृष्टिकोण के प्रति स्पष्ट प्रतिबद्धता भी; और एक राजनेता के रूप में राजनीति की सारी मजबूरियों के बावजूद जो हमेशा एक लोकतंत्रवादी बने रहे। उनकी विरासत आज भी महत्त्वपूर्ण बनी हुई है—शायद हमारे इतिहास के किसी भी दौर से ज़्यादा वह आज प्रासंगिक है।

सम्पादक के बारे में

पुरुषोत्तम अग्रवाल ने जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय से ‘कबीर की भक्ति का सामाजिक अर्थ’ विषय पर पीएच.डी. की डिग्री प्राप्त की और रामजस कॉलेज, दिल्ली तथा जेएनयू में अध्यापन कार्य किया। प्रकाशित कृतियाँ : ‘संस्कृति : वर्चस्व और प्रतिरोध’, ‘तीसरा रुख’, ‘विचार का अनंत’, ‘शिवदानसिंह चौहान’, ‘निज ब्रह्म विचार’, ‘कबीर : साखी और सबद’, ‘हिन्दी सराय : अस्त्राखान वाया येरेवान’ तथा ‘पद्मावत : एन एपिक लव स्टोरी’ (अंग्रेज़ी में) पुस्तकों के लेखक।

उनकी पुस्तक ‘अकथ कहानी प्रेम की : कबीर की कविता और उनका समय’ भक्ति-सम्बन्धी विमर्श में अनिवार्य ग्रन्थ का दर्जा हासिल कर चुकी है। पिछले कुछ वर्षों में प्रकाशित कहानियाँ जीवन्त और विचारोत्तेजक चर्चा के केन्द्र में रही हैं, जिनमें शामिल हैं–‘चेंग-चुई’, ‘चौराहे पर पुतला’, ‘पैरघंटी’, ‘पान पत्ते की गोठ’ और ‘उदासी का कोना’। ‘नाकोहस’ उनका पहला और अत्यन्त चर्चित उपन्यास है।

भक्ति-संवेदना, शा‌न्‍तिपूर्ण सह-अस्तित्व और सांस्कृतिक इतिहास से सम्बद्ध समस्याओं पर आयोजित गोष्ठियों और भाषणमालाओं के लिए अमेरिका, इंग्लैंड, जर्मनी, फ़्रांस, आयरलैंड, नेपाल, श्रीलंका, थाईलैंड, ऑस्ट्रेलिया आदि देशों की यात्राएँ कीं। कैंब्रिज यूनिवर्सिटी और कॉलेज ऑफ़ मेक्सिको में विजिटिंग प्रोफ़ेसर भी रहे।

आलोचना पुस्तक ‘तीसरा रुख’ के लिए 1996 में देवीशंकर अवस्थी सम्मान, ‘संस्कृति : वर्चस्व और प्रतिरोध’ के लिए 1997 में मध्य प्रदेश साहित्य परिषद् के मुकुटधर पाण्डेय सम्मान तथा ‘अकथ कहानी प्रेम की : कबीर की कविता और उनका समय’ के लिए 2009 में राजकमल प्रकाशन के प्रथम राजकमल कृति सम्मान—कबीर, हजारीप्रसाद द्विवेदी पुरस्कार से सम्मानित।

राजकमल प्रकाशन की ‘भक्ति शृंखला’ के सम्पादक हैं। इसके तहत अभी तक डेविड लोरेंजन की पुस्तक ‘निर्गुण संतों के स्वप्न’, जॉन स्टैटन हॉली की ‘भक्ति के तीन स्वर’ और डॉ. रमण सिन्हा की पुस्तक ‘रामचरितमानस : पाठ : लीला : चित्र : संगीत’ का विस्तृत भूमिकाओं के साथ सम्पादन कर चुके हैं।

एनसीईआरटी की हिन्दी पाठ्य-पुस्तक समिति के मुख्य सलाहकार, भारतीय भाषा केन्द्र, जेएनयू के अध्यक्ष तथा संघ लोक सेवा आयोग के सदस्य भी रह चुके हैं।

अनुवादक के बारे में

पूजा श्रीवास्तव वर्तमान में दूरदर्शन में समाचार वाचक के पद पर हैं। ये जन संचार व पत्रकारिता में लगभग 15 वर्षों से सक्रिय हैं। समाजशास्त्रीय विवेचन व हिंदी साहित्य में गहरी अभिरुचि रखती हैं और विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में सामयिक  व सामाजिक कला विषयों पर उनके लेख प्रकाशित हैं। इस पुस्तक के हिंदी अनुवाद की प्रेरणा उन्हें मूल अंग्रेजी पुस्तक को पढ़कर मिली और इन्होंने स्वयं लेखक से इसके लिए संपर्क किया।

Additional information

Authors

Binding

Edition

ISBN

Pages

Pub-Year

Publisher

Subject

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “‘Kaun Hain Bharat Mata?’ : Itihas, Sanskriti Aur Bharat Ki Sankalpana”